पूज्य क्षुल्लक श्री 105 गंभीरसागर जी

gambhirsagarji2पूज्य क्षुल्लक श्री 105 गंभीरसागर जी

मध्यप्रदेश की संस्कार धानी जबलपुर नगर के फुटाल मोहल्ले में धर्मनिष्ट परिवार पिता श्री कपूरचन्द जी व मां श्रीमति कस्तुरीबाई की कोख से सभी को सुखद प्रदान करने वाले ऐसे ही बालक का जन्म हुआ । रक्षाबंधन का दिन था घर में सभी खुशियां मना रहे थे । खुशी केवल पर्व की ही नही थी अपितु घर में जन्में नन्हें बालक का नाम राकेश रखा गया । ध्यान व चरित्र में द्रुणता देखकर आपके भाव सन 1984 में चरित्र की और कदम बढाने के हुए और आपने आचार्य श्री के समक्ष रखकर उत्तम तप के दिन ब्रम्हचार्य व्रत आजीवन धारण करने की प्रतिज्ञा की आपकी भावनाओं को तीव्र उत्कंठथा को देखकर नैनिगिरी में ही 10 फरवरी 1987 को 23 दीक्षाओं के मध्य आपको क्षुल्लक श्री गंभीरसागर जी इस नाम से संबोधित किया गया ।